• 21.6.20

    सूर्यग्रहण (Solar eclipse)

    सूर्यग्रहण (Solar eclipse)-
    जब पृथ्वी की परिक्रमा करते समय चंद्रमा, सूर्य और पृथ्वी के बीच में आ जाता है, जिसके कारण चंद्रमा सूर्य के प्रकाश को पृथ्वी तक पहुँचने से रोकता है, तब सूर्य ग्रहण होता है।
    • ग्रहण के तीन प्रकार हैं:
    1. एक पूर्ण सूर्य ग्रहण है, जो पृथ्वी पर केवल एक छोटे से क्षेत्र से दिखाई देता है। नासा के अनुसार, जो लोग पूर्ण सूर्य ग्रहण देखने में सक्षम हैं, वे पृथ्वी से टकराते ही चंद्रमा की छाया के केंद्र में होते हैं।
    • पूर्ण सूर्य ग्रहण तब होता है जब सूर्य, चंद्रमा और पृथ्वी एक सीधी रेखा में होते हैं।
    2. सूर्य ग्रहण का दूसरा प्रकार आंशिक सूर्यग्रहण है, जिसमें सूर्य के एक छोटे से हिस्से पर चंद्रमा की छाया दिखाई देती है।
    3. तीसरा प्रकार एक कुंडलाकार सूर्य ग्रहण है, जो तब होता है जब चंद्रमा पृथ्वी से सबसे दूर होता है, यही कारण है कि यह छोटा लगता है। इस प्रकार के  ग्रहण में, चंद्रमा पूरी तरह से सूर्य को अवरुद्ध नहीं करता है, लेकिन "आग की अंगूठी(Ring of fire)" बनने से सूरज की एक बड़ी डिस्क के ऊपर "अंधेरे डिस्क" की तरह दिखता है।

    अन्य महत्वपूर्ण जानकारी:-
    इसके अलावा, सूर्य ग्रहण के दौरान चंद्रमा पृथ्वी पर दो छायाएं बनाता है, पहले को उम्ब्रा(Umbra) कहा जाता है, जो पृथ्वी पर पहुंचते ही छोटी हो जातीहै।
    दूसरे को पेनुम्ब्रा कहा जाता है, जो पृथ्वी पर पहुंचते ही बड़ा हो जाता है।
    नासा के अनुसार, umbra में  लोगों को पूर्ण ग्रहण दिखाई देता है और जो लोग penumbra में होते हैं, उन्हें आंशिक ग्रहण दिखाई देता है।
    नासा ने सौर ग्रहण का अध्ययन करने वाले कारणों में से एक कारण सूर्य की ऊपरी परत को कोरोना बताया है।
    चन्द्रग्रहण के दौरान, नासा इस शीर्ष परत को देखने के लिए जमीन और अंतरिक्ष यंत्रों का उपयोग करता है जब सूर्य की चमक चंद्रमा द्वारा अवरुद्ध हो जाती है।

    शिक्षक भर्ती नोट्स

    General Knowledge

    General Studies